Start Planning
शहीद उधम सिंह जयंती

शहीद उधम सिंह जयंती 2021, 2022 और 2023

स्वतंत्रता सेनानी, उधम सिंह की जन तिथि, “शहीद उधम सिंह जयंती” के नाम से जानी जाती है, और यह दिन हरयाणा के राज्य में सार्वजनिक अवकाश का दिन होता है।

सालतारीखदिनछुट्टियांराज्य / केन्द्र शासित प्रदेश
202126 दिसंबररविवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
202226 दिसंबरसोमवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
202326 दिसंबरमंगलवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
202426 दिसंबरगुरूवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
कृपया पिछले वर्षों की तारीखों के लिए पृष्ठ के अंत तक स्क्रॉल करें।

अंग्रेज़ों के लिए, शहीद उधम सिंह का हत्यारा था जिसने 13 मार्च,1940 में पंजाब राज्य के लेफ्टिनेंट गवर्नर की हत्या करी थी। शहीद उधम सिंह ने लन्दन में चल रही एक शोक सभा के दौरान माइकल ओ’द्वएर की ह्त्या कर दी थी। उन्होंने बचने की कोशिश नहीं करी और तुरंत गिरफ्तार कर लिए गए। जेल जाकर इन्होने 40 दिन तक भूख हड़ताल करी लेकिन बाद में इन्हें ज़बरदस्ती खाना खिलाया गया और यह अपने फँसी के दिन, यानि, 31 जुलाई, 1940 तक जीवित रहे।

भारत में कई बार इन्हें “शहीदी आज़म” के नाम से बुलाया जाता है जिसका अर्थ होता है “एक महान शहीद”। माइकल ओ’द्वएर की हत्या करने का मुख्य कारण था कि बीस वर्ष पहले उन्होंने 1000 लोगों की सामूहिक हत्या में भाग लिया था। वर्ष 1919 में जब पंजाब में दंगे छिडे थे, तब औरतों पर, बच्चों पर और अन्य नागरिकों पर गोलियाँ बरसाई गईं थीं। इन दंगो के होने से कुछ दिन पहले एक दूसरी घटना में चार यूरोप निवासियों को मार दिया गया था और कुछ अंग्रेज़ी बैंकों में आग लगा दी गई थी। लेकिन जिस भीड़ को माइकल ओ’द्वएर ने मारा था, वो शान्ति से अपना प्रदर्शन करने वाले कुछ लोगों का समूह था।

महात्मा गाँधी ने माइकल ओ’द्वएर की हत्या की आलोचना करी थी, लेकिन पंजाब के अन्य मूल निवासियों ने इसे सही ठहराया था। अमृतसर शहर के जल्लियनवाला बाग़ में जहाँ 1919 हत्याकांड हुआ था, वहाँ की वाटिका में एक राष्ट्रीय स्मारक है, जो सम्मानपूर्वक शहीद उधम सिंह की याद दिलाता है।

पिछले कुछ वर्ष

सालतारीखदिनछुट्टियांराज्य / केन्द्र शासित प्रदेश
202026 दिसंबरशनिवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
201926 दिसंबरगुरूवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
201826 दिसंबरबुधवारशहीद उधम सिंह जयंती HR
201726 दिसंबरमंगलवारशहीद उधम सिंह जयंती HR