Make the most of your public holidays with us!
Start Planning
मुहर्रम

मुहर्रम 2017 और 2018

मुहर्रम इस्लामी पंचांग का पहला महीना होता है।

सालतारीखदिनछुट्टियांराज्य / केन्द्र शासित प्रदेश
20171 अक्टूबररविवारमुहर्रमAP BR CG CH DL GJ
HP HR JH JK KA KL
MH MP OR RJ TG TN
TR UP WB
201813 सितंबरगुरूवारमुहर्रमAP BR CG CH DL GJ
HP HR JH JK KA KL
MH MP OR RJ TG TN
TR UP WB

इसे इस्लामी नव वर्ष या महीने के पहले 10 दिन के रूप में भी जाना जाता है, जो दुनिया भर के मुस्लिमों के लिए ऐतिहासिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है। सुन्नी और शिया दोनों मुहर्रम मनाते हैं, हालाँकि दोनों के तरीकों में भिन्नता होती है। मुहर्रम के महीने को दूसरे सबसे पवित्र महीने के रूप में माना जाता है, केवल रमज़ान ही इसके ऊपर है।

हालाँकि, सात भारतीयों में से केवल एक मुस्लिम है, फिर भी इनकी जनसंख्या 170 मिलियन से अधिक है, जो मुहर्रम जैसे इस्लामी त्योहार को काफी व्यापक बनाता है। भारत की ज्यादातर मुस्लिम जनसंख्या सुन्नी है, लेकिन लगभग एक चौथाई भारतीय मुस्लिम शिया है, और कुछ दोनों समूहों में आते हैं और खुद को सूफी मानते हैं।

हालाँकि, मुहर्रम के दौरान अन्य महत्वपूर्ण दिन होते हैं, लेकिन मुहर्रम का सबसे महत्वपूर्ण दिन 10वां दिन होता है, जिसे “अशुरा” के रूप में जाना जाता है, इसे भारत और दुनिया के अन्य स्थानों पर रहने वाले मुस्लिमों द्वारा मनाया जाता है। मुस्लिम मान्यता के अनुसार, अशुरा के दिन मुहम्मद के पोते इमाम हुसैन, 680 ईसवी में करबला के युद्ध के दौरान लड़ते हुए शहीद हो गए थे। करबला मध्य इराक का शहर है, और यह युद्ध सच्चे खलीफा के झगड़े पर केंद्रित था। यह भी मान्यता है कि इसी दिन आदम और हव्वा बनाये गए थे और इसी दिन मूसा लाल सागर से इजराइल गए थे, जबकि सागर फराओ और उसकी युद्ध सेना को निगल गया था।

शिया अशुरा और संपूर्ण मुहर्रम के दौरान शोक मनाते हैं। वे काले कपड़े पहनते हैं और मजलिस में शामिल होते हैं, करबला के खूनी युद्ध पर भाषण सुनते हैं, संगीत से बचते हैं, और शादी-विवाह जैसे खुशहाल अवसरों पर नहीं जाते हैं। मुहर्रम के 10वें दिन, वो रंगीन बैनरों और बांस-और-कागज के शहीद चित्रणों के साथ सड़कों पर उतरते हैं। इस जुलूस के दौरान, वे नंगे पैर चलते हैं और विलाप करते हैं। कुछ लोग अपने आपको खून निकलने तक कोड़े भी मारते हैं जबकि कुछ लोग नाचकर करबला के युद्ध का अभिनय करते हैं।

वहीं दूसरी तरफ सुन्नी उपवास रखते हैं और प्रार्थना करते हैं। वे इस दिन को शिया मुसलमानों की तरह गाजेबाजे के साथ नहीं मनाते हैं और उपवास रखने को भी पूरी तरह से स्वैच्छिक मानते हैं। वे लोग जो उपवास रखते हैं उन्हें अल्लाह की कृपा मिलती है, और उपवास रखने के लिए केवल रमज़ान को ही मुहर्रम से ज्यादा श्रेष्ठ माना जाता है। यह उपवास महीने की पहली तारीख से लेकर 10वें और 11वें दिन के अंत तक रहता है।

मुहर्रम “निषिद्ध” के लिए अरबी शब्द है, और इस महीने के दौरान, मुस्लिमों के लिए लड़ाई-झगड़े जैसी गतिविधियों में शामिल होना निषिद्ध होता है। भारत में यह एक सार्वजनिक अवकाश होने की वजह से अशुरा के दिन कई सरकारी भवन भी नहीं खुलते हैं। पर्यटकों को पोस्ट ऑफिस बंद होने और सार्वजनिक परिवहन के बहुत कम संचालित होने की स्थितियों के लिए तैयार रहना चाहिए। आज के दिन पर्यटक ज्यादा यातायात, सड़कों पर जुलूस, मस्जिदों के आसपास भीड़, और अन्य गतिविधियां देखने की भी उम्मीद कर सकते हैं।

वर्ष के इस समय के दौरान पर्यटक भारत में होने वाली तीन गतिविधियों में हिस्सा ले सकते हैं:

  • मुहर्रम का जुलूस देखें। भारत में, कई गैर-मुस्लिम लोग भी मुहर्रम की गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं, और पर्यटकों के साथ स्थानीय लोगों की भीड़ को जुलूस देखते हुए देखना कोई असामान्य दृश्य नहीं है। हालाँकि, इसके लिए आपको मुहर्रम के 10वें दिन भारत के मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में जाने की जरुरत पड़ेगी जैसे हैदराबाद, मुम्बई, कोलकाता, और दिल्ली।
  • ताजमहल जाएँ, जो इस्लामी वास्तुकला का सुंदर नमूना है। यह आगरा शहर में स्थित है और मुस्लिम मुगल शासक की सबसे प्रिय पत्नी, मुमताज़ महल का मकबरा है, जिन्हें 1632 में यहाँ दफनाया गया था।
  • क़ुतुब मीनार की सैर करें, जो भारत और दुनिया की सबसे बड़ी ईंट की मीनार है। यह लगभग 400 फीट (120 मीटर) लंबी है, और 1200 और 1369 ईसवी के बीच दिल्ली के सुल्तानों के शासनकाल में कई चरणों में बनाया गया था। इस मीनार के अलावा, इस स्थान पर कई दिलचस्प प्राचीन और मध्य युग के स्मारक मौजूद हैं।

भारत एक विशाल देश है जिसे केवल एक बार की यात्रा करके नहीं देखा जा सकता है, लेकिन यदि कोई व्यक्ति मुहर्रम के समय के यहाँ घूमना चाहता है तो भारत की मुस्लिम जनसंख्या के इतिहास और परंपराओं को सीखने का इससे ज्यादा बेहतर समय नहीं हो सकता है।