Make the most of your public holidays with us!
Start Planning
महात्मा गाँधी जयंती

महात्मा गाँधी जयंती 2017 और 2018

भारतवर्ष में 2 अक्टूबर को गाँधी जयंती मनाई जाती है।

सालतारीखदिनछुट्टियांराज्य / केन्द्र शासित प्रदेश
20172 अक्टूबरसोमवारमहात्मा गाँधी जयंती राष्ट्रीय अवकाश
20182 अक्टूबरमंगलवारमहात्मा गाँधी जयंती राष्ट्रीय अवकाश

भारत के कई सुंदर सार्वजनिक उत्सवों में से गाँधी जयंती शांति के अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में सबसे अलग है। भारत में और दुनिया भर में महात्मा गाँधी को सादे जीवन, सरलता और समर्पण के साथ जीवन जीने के सर्वोत्तम आदर्श के रूप में सराहा जाता है। 2 अक्टूबर को उनकी जयंती के दिन सम्पूर्ण भारत के लोग गाँधी जयंती मनाने के लिए एक साथ इकट्ठा होते हैं। वे उनके चित्रों और मूर्तियों पर फूल चढ़ाते हैं, गीत गाते हैं, प्रार्थना करते हैं और मोमबत्तियां जलाते हैं। इस दिन सभी सरकारी कार्यालय, बैंक, पोस्ट ऑफिस और स्कूल बंद रहते हैं।

महात्मा गाँधी कौन थे

महात्मा गाँधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर ज़िले में एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के घर हुआ था। उनका विवाह 13 वर्ष की उम्र में हुआ था, इसके बाद 18 वर्ष की उम्र में वो कानून की पढ़ाई करने के लिए इंग्लैंड चले गए थे। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में रहने वाले भारतीयों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए वहां की यात्रा की, इसके बाद लगभग द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान वो भारत वापस आ गए। “राष्ट्रपिता” के रूप में माने जाने वाले महात्मा गांधी उस युग में भारतीय राष्ट्रवाद के नेता बने जब भारत ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन था।

भारत में, गाँधी जी अपने अहिंसात्मक असहयोग आंदोलन के प्रयोग से स्वतंत्रता के लिए एक साथ रैली निकालने के लिए भारत के लोगों को प्रेरित करते थे। इसी प्रकार के आंदोलनों के लिए उनके तरीके तेजी से दुनिया भर के लिए प्रेरणा बन गए। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता के रूप में उन्होंने हिंसा का प्रयोग किये बिना ब्रिटिश शासन से भारत को मुक्त कराने की दृढ़ रणनीति को जारी रखा। 1946 में, उन्होंने कैबिनेट मिशन से मुलाकात की, जो नए संवैधानिक संरचना का सुझाव देने के लिए उत्तरदायी थे, और उनके साथ बातचीत की। इसके बाद, जल्दी ही स्वतंत्रता प्राप्त हुई और 1947 में, जब गाँधी जी की हत्या हुई तो वो हिन्दू-मुस्लिम दंगों को रोकने का प्रयास करने के लिए दिल्ली में थे।

महात्मा गाँधी को क्यों याद किया जाता है

गाँधी जी भारत और दुनिया भर में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति थे। उनका जीवन और उनके सिद्धांत सभी उम्र के लोगों को प्रेरित करते हैं। उन्होंने जीवन और क्षमा के बारे में महत्वपूर्ण बातें कही हैं, जैसे “मेरा जीवन मेरा संदेश है” और “कमजोर कभी क्षमा नहीं कर सकता है, क्षमा करना मजबूत लोगों का गुण होता है।” भारत के लिए, उन्होंने अपना दृढ़ निश्चय दिखाया और ब्रिटेन से भारत को स्वतंत्रता दिलाने के लिए शांतिपूर्वक विरोध करने में प्रभावशाली रहें। उन्हें अपने तरीकों, दृढ़ निश्चय, शांति और सभी लोगों के लिए अपने अच्छे उद्देश्यों के लिए याद किया जाता है।

गाँधी जी को कई रूपों में, एक युद्ध-विरोधी कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता है। उनके द्वारा आयोजित किये जाने वाले बहिष्कार आने वाली कई पीढ़ियों के लिए दुनिया भर में विरोधों के एक महत्वपूर्ण उदाहरण बन गए थे। विशेष रूप से, प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध के बीच में फंसी हुई दुनिया के लिए उनके विरोध प्रदर्शन सभी प्रकार के लोगों के लिए प्रेरणा बन गए थे। वो कई तरीकों से शांति के अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक माने जाते हैं।

भारत में गाँधी जयंती मनाने के प्रसिद्ध तरीके

हालाँकि, संपूर्ण भारतवर्ष में समारोहों का आयोजन किया जाता है और लेकिन इनमें से कई आयोजन बाकी सबसे अलग होते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • जहाँ इलाहाबाद में तीन नदियों – गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम है (त्रिवेणी संगम)
  • जहाँ 30 जनवरी, 1948 को बापू (गाँधी जी) को गोली लगी थी (गाँधी स्मृति पर शहीद स्मारक)
  • जहाँ 31 जनवरी, 1948 को नई दिल्ली में बापू जी का अंतिम संस्कार किया गया था (यमुना नदी के तट पर स्थित राजघाट)

इन समारोहों में, कई गतिविधियाँ होती हैं। संपूर्ण भारत में गाँधी जी को श्रद्धांजलि देने के लिए स्मारक समारोह और प्रार्थना सेवाएं आयोजित की जाती हैं। कई कलात्मक प्रदर्शनियां, विज्ञान प्रदर्शनियां, और निबंध प्रतियोगिताएं रखी जाती हैं। गाँधी जी के आदर्श अहिंसावादी जीवन को बढ़ावा देने के लिए पुरस्कार वितरित किये जाते हैं। गाँधी जी के जीवन की उपलब्धियों साथ ही उनके संघर्षों पर आधारित फिल्में देखी जाती हैं और किताबें पढ़ी जाती हैं। विशेष रूप से, स्कूल और कॉलेज में, छात्र बापू के लिए प्रसिद्ध गीत “रघुपति राघव राजा राम” गाते हैं। गाँधी जी की प्रतिमाओं पर फूलों की माला चढ़ाई जाती है। इस अवसर पर कई लोग मांस और मदिरा का सेवन करने से भी बचते हैं।

गाँधी जयंती के दिन भारत को देखना वास्तव में एक सुंदर अनुभव है। यह एक ऐसे प्रभावशाली नेता के जीवन को याद करने के लिए मनाया जाता है जिनका भारत की स्वतंत्रता और इसके लोगों के जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव है। वास्तव में, दुनिया भर में गाँधी जी को कई तरीकों से याद किया जाता है। उनका प्रभाव बहुत ज्यादा व्यापक है, और उनकी यादों को इतने प्यार से सहेजा गया है कि उन्हें कभी भुलाया नहीं जायेगा।